Pakistan पर फूटा एक और घातक बम

इंटरेनशनल डेस्क। भूख से रो रहा पाकिस्तान बच्चे पैदा करने में मशगूल है। ऐसा हम नहीं उनकी जनसंख्या की गणना करने वाली रिपोर्ट कह रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान की आबादी साल 1998 में हुयी पिछली जनगणना के मुकाबले 57 फीसद बढ़कर 20.78 करोड़ हो गयी है। हालांकि यह आंकड़ा अस्थायी है। इसलिए यह अंदेशा जताया जा रहा है कि यह प्रतिशत और भी बढ़ सकता है। काउन्सिल आॅफ कॉमन इंटरेस्ट (सीसीआई) को दिए गए आंकड़ों की माने तो पाकिस्तान में वर्तमान में 10.645 करोड़ पुरूष व 10.131 करोड़ महिलाएं है। जबकि ट्रांसजेंडर्स की संख्या भी 10 हजार 418 बतायी गयी है।

पांचवीं जनगणना के नतीजों से तुलना करने पर आबादी में 2.4 फीसदी की वार्षिक दर से 57 फीसदी की वृद्धि हुई है। पाकिस्तान में 1998 में कराई गई जनगणना के अनुसार पाकिस्तान की आबादी 13.2 करोड़ से अधिक थी।

एक प्रतिष्ठित अखबार के मुताबिक 6वीं जनसंख्या और आवास जनगणना 2017 के अस्थायी सारांश परिणामों के मुताबिक, पाकिस्तान की आबादी बढ़कर 20.78 करोड़ हो गई है। 19 वर्षों के भीतर देश की आबादी में 7.54 करोड़ की वृद्धि हुई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीसीआई एक संवैधानिक निकाय है। इसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री करते हैं और चार मुख्यमंत्री इसके सदस्य होते हैं। सीसीआई ने आज जनगणना के अस्थायी आंकड़ों को मंजूरी दे दी। हालांकि, अंतिम नतीजे अगले साल उपलब्ध होंगे।

पाकिस्तान ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स (पीबीएस) ने इस साल की शुरुआत में पाकिस्तान में तकरीबन दो दशकों के अंतराल के बाद छठी जनगणना कराई थी। इसमें खैबर पख्तूनख्वा, बलूचिस्तान और संघ प्रशासित कबायली क्षेत्र (फाटा) में जनसंख्या वृद्धि दर में बढ़ोतरी हुई है, जबकि पंजाब और सिंध में पिछले नतीजों के मुकाबले जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट आई है।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *