….. जब ऊर्जा मंत्री का चेहरा हुआ धुंआ

लखनऊ। उप्र की योगी आदित्यनाथ सरकार के सहयोगी दल के एक विधायक ने शुक्रवार को सरकार के लिए ही विधानसभा में असहज स्थिति पैदा कर दी। विधायक ने जिस समय अपनी व्यथा सदन के सामने व्यक्त की उस समय संबंधित विभाग के मंत्री अपने कार्यों को गिनाते हुए अपनी ही पीठ थपथपा रहे थे।

लेकिन जब सहयोगी दल के विधायक का सवाल आया तो उनके चेहरे की सारी चमक धुंआ हो गयी।
दरअसल हुआ यूं कि मानसून सत्र के अन्तिम दिन प्रदेष के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा विपक्ष द्वारा बिजली को लेकर उठाये गये सवालों का जवाब दे रहे थे।

इस दौरान वे लगातार यह दावा करते दिखे कि पूर्ववर्ती सरकारों से बेहतर काम बिजली विभाग में उन्होंने करके दिखाया है। लाखों मजरों को ऊर्जीकृत करने के साथ ही 86 लाख घरों को रौषन भी किया है। आगामी 31 दिसम्बर तक सभी मजरों को ऊर्जीकृत करने के साथ ही हर घर को बिजली का कनेक्शन दे देंगे।

विपक्षी सदस्यों की टोका टाकी के बीच श्रीकांत शर्मा दावे पर दावा कर ही रहे थे और धाराप्रवाह बोले चले जा रहे थे। इसी दौरान भाजपा नीत वाली योगी सरकार के सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के विधायक त्रिवेणी राम ने खड़े होकर कहा कि उन्होंने चार महीने पहले बिजली के कनेक्षन के लिए आवेदन किया था।

उन्होने बताया घर तक खम्भा और तार तो आ गया लेकिन बिजली अब तक नहीं आयी। उनके इस सवाल पर विपक्षी सदस्यों जहां जमकर ठहाके लगाये वहीं यह भी कहा कि सच्चाई तत्काल ही सामने आ गयी। वहीं ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने किसी तरह अपना बचाव करते हुए कहा कि वे इसकी जांच करायेंगे कि यह स्थिति क्यों उत्पन्न हुई।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *