BRICS में MODI ने PAKISTAN में पल रहे आतंक का उठाया मुद्दा, CHINA  स्तब्ध

इंटरनेशनल डेस्क। ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज ब्रिक्स के मंच से पूरी दुनिया को उनकी मंशा और प्राथमिकता गिना दी है। बैठक में उन्होने कहा कि सभी देशों में शांति के लिए ब्रिक्स देशों का एकजुट रहना बेहद जरूरी है। भाषण से पहले चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का औपचारिक स्वागत किया। ब्रिक्स बैठक के 9वें सम्मेलन में ब्राजील, रूस, भारत,चीन व दक्षिण अफ्रीका के सभी राष्ट्राध्यक्ष शामिल हुए।

MODI  के BRICS  घोषणापत्र में आतंकवाद का हुआ जिक्र

ब्रिक्स समिट में भारत ने चीन को दरकिनार करते हुए आतंकवाद का मुद्दा उठाया। आपको बता दें कि शी चिनपिंग ने बैठक से दो दिन पूर्व अपने मित्र पाकिस्तान में पल रहे आतंकी गुटों का बचाव करते हुए कहा था कि बैठक में आतंकवाद का मुद्दा न उठाया जाए।

अगर ऐसा होता है तो ब्रिक्स अपने मूल कार्य से वंचित हो सकता है। लेकिन भारत ने उसके इस विचार को दरकिनार कर दिया था। जिसके बाद कल चीनी राष्ट्राध्यक्ष ने एकजुटता का आह्वान करते हुए आतंकवाद के मुद्दे पर भारत के रूख का समर्थन किया।

ब्रिक्स श्यामन घोषणापत्र के 48 वें पैराग्राफ में आतंकवाद पर चिंता व्यक्त की गयी है। इसमे ब्रिक्स देशों के आस—पास फैल रहे आतंकवाद व सुरक्षा की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की गयी है। इन इलाकों में तालिबान, आईएसआईएल, अलकायदा से खतरा बताया गया है ।

वहीं ईस्टर्न तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट, इस्लामिक मूवमेंट आॅफ उजबेकिस्तान, हक्कानी नेटवर्क, जैश—ए—मोहम्मद, टीटीपी व हिज्बुल उत तहरीर का भी जिक्र किया गया है।

ब्रिक्स बैठक के बाद विदेश मंत्रालय ने प्रेस को संबोधित किया। विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि पीएम ने ब्रिक्स की बैठक में सभी देशों को एकजुटता से निर्णय लेने की अपील की।

पीएम मोदी ने सुरक्षा परिषद में बदलाव की भी बात की। इसके अलावा पीएम ने मनी लॉन्ड्रिंग, काला धन का मुद्दा सभी देशों के सामने उठाया।

सूत्रों की मानें, तो भारत ने ब्रिक्स समिट में आतंकवाद का मुद्दा उठाया है. ब्रिक्स फोरम में बोलने के बाद भारत ने अलग से यह मुद्दा उठाया।

शी जिनपिंग ने कहा कि दुनिया में जो भी मुद्दे इस समय चल रहे हैं, वह हमारे हिस्सेदारी के बिना निपट नहीं सकते हैं। चीनी राष्ट्रपति ने ऐलान किया कि वह ब्रिक्स देशों में बिजनेस ऑपरेशन, विकास को बढ़ावा देने के लिए 4 मिलियन यूएस डॉलर की मदद करेंगे।

शी जिनपिंग ने कहा कि हमारे राष्ट्रीय स्थिति में हमारे बीच मतभेदों के बावजूद हम पांचों देश विकास के क्षेत्र में समान स्टेज पर हैं।

हम सभी देशों के एक ही आवाज में सभी की समस्याओं को लेकर बोलना चाहिए, ताकि विश्व में शांति और विकास आगे बढ़ सके।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *