Aadhar  से Link  न कराने पर बंद होगी मोबाइल सेवा

लखनऊ । मोबाइल नम्बर को आधार से लिंक कराने के लिए बीएसएनएल ग्राहक सेवा केन्द्रों में भारी भीड़ उमड़ रही है। उपभोक्ताओं की सहूलियत के लिए लखनऊ दूरसंचार प्रबंधन ने सभी उपभोक्ता सेवा केन्द्र व फ्रेंचाइजी सेन्टरों पर भी मोबाइल नम्बरों को आधार से जोड़ने का निर्देश दिया है।

लखनऊ दूरसंचार के प्रधान महाप्रबंधक राजेश कुमार के मुताबिक राजधानी में 50 हजार से अधिक मोबाइल उपभोक्ताओं के नम्बरों को आधार से जोड़ा जा चुका है। केन्द्र सरकार ने ई-केवाईसी के लिए समय अवधि निर्धारित करते हुए कहा कि सभी कम्पनियों को 28 फरवरी 2018 तक सभी उपभोक्ताओं का ई-केवाईसी रिकार्ड पूरा करने को कहा है।

सुरक्षा के लिहाज से मोबाइल सेवा को अत्यंत संवेदनशील सेवा में रखा गया है। नया मोबाइल कनेक्शन देने के लिए दूरसंचार विभाग व ट्राई ने सख्त नियम बनाये हैं। फर्जी दस्तावेजों पर सिम न जारी हों इसके लिए दर्जनों बार नियमों को कठोर किया जा चुका है।

दूरसंचार विभाग ने संचार कम्पनियों को सख्त निर्देश दिये हैं कि सिम जारी करते समय असली उपभोक्ता को अपने मूल दस्तावेजों के साथ आना अनिवार्य है, लेकिन निर्देशों का सख्ती से अनुपालन न होने के कारण फर्जी दस्तावेजों के आधार पर गलत लोगों को सिम जारी होना बंद नहीं हो पाया है।

आतंकी व आपराधिक गतिविधियों में फर्जी दस्तावेजों पर जारी हुए सिमों का प्रयोग होने पर सुरक्षा एजेंसियों ने भी कई बार संचार कम्पनियों के आला अफसरों के साथ बैठकें करके उन्हें अपनी चिंता से अवगत कराकर नियमों का कठोरता से पालन करने का निर्देश दिया, लेकिन सिम का व्यापार बढ़ाने में संलग्न कम्पनियों ने सुरक्षा मानकों की बहुत परवाह नहीं की।

मोबाइल नम्बरों की ई-केवाईसी की मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी टेलीकाम मिनिस्ट्री की खुफिया इकाई ‘टर्म’ (टेलीकॉम एनफोर्समेंट रिसोर्सेज एंड मॉनीटरिंग सेल) को दी गयी है।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *