Arun जेटली से छीन लिया जाएगा यह पद, उन्होने दिए संकेत

नई दिल्ली। सितंबर महीने के लिए एनडीए (नेशनल डेमोक्रेटिक एलांयस) में बदलाव की बयार आ रही है। इसके संकेत अरूण जेटली ने दे दिए है। हालांकि नीतीश कुमार के भाजपा से गठबंधन करने के बाद से मोदी कैबिनेट के फेरबदल के कयास ऊफान पर है। लेकिन सितंबर में बदलाव होने की संभावना जतायी जा रही है। मनोहर पर्रिकर के गोवा वापसी के बाद से ही रक्षा मंत्री का अतिरिक्त पद अरूण जेटली ने संभाल रखा है। लेकिन उन्होने ही कह दिया है कि वह बहुत दिनों तक रक्षा मंत्री नही रहने वाले।

रक्षा मंत्री के कार्यकाल पर जेटली ने दिया यह जवाब

रक्षा मंत्री के कार्यकाल के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में अरूण जेटली ने कहा कि कम से कम मुझे यह उम्मीद है कि अब मैं ज्यादा दिनों तक नहीं रहूंगा। वैसे भी मुझे इसका फैसला नहीं करना है। उल्लेखनीय है कि जेटली के पास वित्त मंत्रालय है। पर्रिकर के गोवा का सीएम बनने के बाद उन्हें अतिरिक्त जिम्मेदारी के तौर पर रक्षा मंत्रालय दिया गया था।

रेल मंत्री का बदलना भी माना जा रहा तय
अगस्त का महीना रेल हादसों का महीना बन गया। लगातार हो रहे रेल हादसों से दुखी मंत्री सुरेश प्रभु ने इस्तीफे की भी पेशकश कर दी है। हालांकि नरेन्द्र मोदी ने उन्हें इंतजार करने को कहा है। चर्चा यह है कि नितिन गडकरी को रेल मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार दिया जा सकता है।

कब हो सकता है Cabinet में फेरबदल

मानसून सत्र खत्म होने के बाद से ही कैबिनेट फेरबदल की चर्चा तेज हो चुकी है । हालांकि गुजरात राज्यसभा चुनाव आदि की वजह से फेरबदल की तारीख आगे बढ़ती रही। ऐसे में अब मोदी सरकार अपने तीसरे कैबिनेट फेरबदल के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्रिपरिषद में बदलाव को लेकर चर्चा की है। कहा जा रहा है कि चीन दौरे से पहले मोदी इस प्रोसेस को पूरा कर लेना चाहते हैं।

JDU की इंट्री होना तय
मोदी मंत्रिपरिषद में जेडीयू नेताओं को भी शामिल किया जा सकता है। हाल ही मेंबिहार में जेडीयू और बीजेपी ने मिलकर सरकार बनायी है। इसी के चलते जेडीयू के नेताओं को केंद्रीय मंत्री बनने का सुख मिलता नजर आ रहा है।

नए Governor’s के नामों की घोषणा भी

कैबिनेट में फेरबदल के अलावा सरकार विभिन्न राज्यों के राज्यपाल के नामों की घोषणा कर सकती है, जिसमें तमिलनाडु और बिहार के राज्यपाल भी शामिल हैं। इसके अलावा कुछ मंत्रियों को साल 2019 के चुनाव के मद्देनजर पार्टी में भेजा जा सकता है। ये मंत्री उत्तर प्रदेश राज्य यूनिट पर विशेष ध्यान देंगे।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *