Privet Company’s को लाभ पहुंचाने के लिए खरीदी जा रही महंगी बिजली-AAP

aapलखनऊ । आम आदमी पार्टी ने यूपी में बिजली के दामों में अक्टूबर माह से की जाने वाली 12 प्रतिशत बढोत्तरी का कड़ा विरोध करती है तथा और सरकार से मांग करती है कि बिजली बढ़ोतरी के आदेश को तत्काल वापस ले।

आप के लखनऊ के संयोजक गौरव माहेश्वरी ने कहा कि बिजली की दरों में बार-बार वृद्धि आम आदमी के ऊपर एक अत्याचार से कम नहीं है, बिजली विभाग का तर्क गलत है कि उसकी लागत अधिक आ रही है।

वास्तव में इसका मूल कारण बिजली विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार और गलत नीतियां हैं। सरकार और निजी बिजली कंपनियों के बीच सांठ गांठ के कारण सरकारें उद्योगपतियों को लाभ पहंुचने के लिए जानबूझकर महंगी बिजली खरीदीती है और इसका बोझ आम उपभोक्ताओं पर डाल दिया जाता है।

जिला संगठन संयोजक कमलेन्द्र सिंह श्रीनेत ने कहा कि ग्रामीण घरेलू बिजली उपभोक्ताओं की दरों में 260 से 350 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की गई है, जिसके चलते गरीब परिवार बिजली नहीं ले पायेगा। बिजली विभाग चाहता है कि गरीब परिवार रात के अंधेरे में ही अपना जीवन बिताये।

वरिष्ठ नेता नीरज श्रीवास्तव ने कहा कि यूपी में लाइन लॉस भी बहुत अधिक है जो वास्तव में भ्रष्टाचार के कारण ही है। बिजली चोरी को विभाग की मिलीभगत से लाइन लॉस में डाल दिया जाता है और इसकी भरपाई भी आम उपभोक्ता को करना पड़ता हैं।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *