चेकिंग के दौरान हुआ कि महिला की खुली पोल … ! भेजी गयी जेल

फैजाबाद । पुलिस कप्तान के विशेष आदेश पर नुक्कड़ चौराहों पर चलाये जा रहे सघन वाहन चेकिंग के दौरान मकबरा तिराहे पर उपनिरीक्षक की वर्दी पहने स्कूटी पर सवार फर्जी महिला दरोगा को पुलिस ने पकड़ा।

गिरफ्तार की गयी फर्जी महिला दरोगा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करके पुलिस ने उसे जेल भेज दिया है। कोतवाली नगर के प्रभारी अमर सिंह ने बताया कि बीती रात्रि 9 बजे महिला थाना पुलिस के साथ नाका तिराहा पर वाहन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था।

चूंकि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने निर्देशित कर रखा है कि यदि कोई पुलिस अधिकारी अथवा आरक्षी बिना हेलमेट के दो पहिया वाहन चलाता हुआ पाया जाय तो उसके विरूद्ध भी चालान की कार्यवाही की जाय।

रात्रि करीब 9 बजे नाका की तरफ से स्कूटी पर सवार वर्दीधारी महिला दरोगा आती दिखाई पड़ी। महिला थाना पुलिस ने उसे भी रोंका और पूंछताछ शुरू किया। उससे जब यह पूंछा गया कि वह किस थाने में तैनात है तो पहले उसने गोमती नगर थाना लखनऊ बताया उसके बाद वह कहने लगी वह रूदौली थाने में तैनात है।

इसबात की जब जानकारी की गयी तो मालूम हुआ कि दोनों थानों में संध्या तिवारी अथवा रूकमणी तिवारी के नाम से किसी महिला दरोगा की तैनाती नहीं है। उन्होंने बताया कि पूंछताछ के दौरान जब उसके पास से दो नेमप्लेट मिली एक पर संध्या तिवारी और दूसरे पर रूकमणी तिवारी लिखा हुआ था तो पुलिस को शंका हुई।

कड़ाई से पूंछताछ करने के बाद उसने बताया कि वह तिलकनगर जनौरा के अधिवक्ता श्रीकांत त्रिपाठी के मकान में बीते तीन माह से 1600 रूपया मासिक किराये पर कमरा लेकर रह रही है। मकान मालिक से जब पूंछताछ की गयी तो उसने यह बताया कि इसने रूदौली थाना में अपनी तैनाती बताकर किराये पर कमरा लिया था।

पुलिस ने जब और कड़ाई से पूंछताछ किया तो संध्या उर्फ रूकमणी तिवारी ने सच्चाई कबूल करते हुए कहा कि वह गोण्डा जनपद के छपिया की रहने वाली है और शहर में रहकर महिला दरोगा की वर्दी पहनकर वाहनों से अवैध वसूली करने का काम करती है। पुलिस ने उसके विरूद्ध मुकदमा कायम कर उसे जेल भेज दिया है।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *