डेरा प्रमुख यौन शोषण के दोषी ठहराए गए, सजा का फैसला 28 अगस्त को

चंडीगढ़ । डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के पेश होने के बाद पंचकुला सीबीआई कोर्ट ने यौन शोषण मामले में फैसला सुनाते हुए डेरा प्रमुख बाबा राम रहीम को दोषी ठहराया है। जिसके बाद पुलिस उन्हें अंबाला सेंट्रल जेल ले जा रही है। सजा के कितनी होगी इसकी सुनवाई 28 अगस्त तय की गयी है। इस फैसले का पहले से ही अंदेशा जताया जा रहा था। फैसले के बाद पंचकुला में सेना फ्लैग मार्च कर रही है।

हरियाणा के कई शहरों की बिजली काट दी गयी है। । आपको बताते चलें कि पूरी सुनवाई के समय कोर्ट में केवल जज राम रहीम और स्‍टाफ मौजूद थे। जज जगदीप सिंह ने पूरा फैसला पढ़ा।

यह भी पढ़े — पेश होने वाले हैं डेरा प्रमुख, 800 गाड़ियों के काफिले के साथ सुबह पंचकूला के लिए हुए रवाना

Hariyana C.M. ने कहा, सुरक्षा के हैं सख्‍त इंतजाम

इस पूरे मामले में फैसला आने से पूर्व ही हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर खट्टर ने डेरा समर्थकों से अपील करते हुए कहा है कि कोर्ट का फैसला हम लागू कराएंगे। उन्‍होंने आगे कहा कि पूरे राज्‍य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं और हालात से निपटने के लिए पूरी तैयारी की गयी है।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कानून-व्‍यवस्‍था की जानकारी ली। साथ ही गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों राज्‍यों के मुख्‍यमंत्री से बात की। बता दें कि शुक्रवार सुबह 9.05 बजे राम रहीम सिरसा आश्रम से पंचकुला कोर्ट के लिए रवाना हो गए थे। सिरसा से रवानगी के वक्‍त राम रहीम के साथ 800 गाड़ियों का काफिला चला था।

Punjab – Hariyana हाईकोर्ट का प्रशासन को कड़ा निर्देश

कानून व्‍यवस्‍था पर प्रशासन को कड़ा निर्देश जारी करते हुए पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा कि किसी तरह की अराजकता बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी, जरूरत पड़ने पर बल प्रयोग किया जाए। कोर्ट ने अपने निर्देश में कहा कि कोई नेता पंचकुला न पहुंच पाए और यदि कोई नेता ऐसा करता भी है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाए।

कोर्ट ने आगे कहा कि अदालत की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करायी जाए और ध्‍यान रखा जाए कि राम रहीम की पेशी में किसी तरह की देरी न हो। इसके अलावा कोर्ट ने आत्मदाह की कोशिशों पर नजर रखने को भी कहा है।

हेलीकॉप्टर व ड्रोन से निगरानी

पंचकुला में भारी संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। हेलीकॉप्‍टरों के जरिए भी निगरानी की जा रही है। अदालत के परिसर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पुलिस और प्रशासन को डर है कि इस मामले में अगर फैसला डेरा प्रमुख के खिलाफ आया तो कानून-व्यवस्था के लिये चुनौतीपूर्ण हालात हो सकते हैं।

इसे देखते हुये पंजाब और हरियाणा के संवेदनशील इलाकों में 15000 अर्धसैनिक बलों समेत हजारों की संख्या में जवानों को तैनात किया गया है।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *