विरोधाभासी रिपोर्ट— डोकलाम में 80 टेंट लगाने वाला चीन 100 मीटर पीछे हटने को राजी

indiachina

नई दिल्ली। अपनी सरकारी मीडिया के माध्यम से पिछले 7 हफ्तों से भारत को धमका रहे चीन के तेवर कुछ नरम पड़ने के आसार दिख रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी डोकलाम की विवादास्पद जगह से 100 मीटर पीछे हटने को तैयार हो गयी है।

हालांकि जानकारों की माने भारत की इच्छा है कि चीनी सेना कम से कम 250 मीटर पीछे हटे।

वहीं दूसरी तरफ चीन सरकार के मुखपत्र भारत को धमकी देने का सिलसिला जारी रखे हुए हैं। ग्लोबल टाइम्स ने डोकलाम से भारत को अपनी सेना हटाने की चेतावनी देते हुए यह भी कह दिया है कि भारत के साथ सैन्य संघर्ष की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।

चीनी सीमा एवं महासागर मामलों के डिप्टी डायरेक्टर जनरल वांग वेनली सीमा से कश्मीर और उत्तराखंड में घुसने तक की धमकी दे चुके हैं। हालांकि डोकलाम की जमीनी हकीकत कुछ और ही है। फिलहाल चीनी सेना डोकलाम में 100 मीटर पीछे हटने को राजी हो गई है, लेकिन भारतीय सेना उसको 250 मीटर पीछे हटने को कह रही है।

भारत की ओर से चीन को कहा गया है कि वह विवादित प्वाइंट से 250 मीटर पीछे हटे, जिसके बाद ही भारतीय सेना पीछे जाएगी। चीन ने कहा कि वह 100 मीटर पीछे हटने को तैयार है। लिहाजा भारत को अपनी पूर्व पोजिशन पर जाना चाहिए। इससे साफ है कि दोनों देशों की सेनाएं संघर्ष की बजाय विवादित क्षेत्र से पीछे हटने जा रही हैं।

कहीं 80 टेंट लगाने की चर्चा तो कहीं पीछे हटने की

डोकलाम पर चीन के सैन्य मौजूदगी बढ़ाने और 100 मीटर पीछे हटने की विरोधाभासी रिपोर्ट एक साथ सामने आई हैं। पहली रिपोर्ट में कहा गया कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने डोकलाम पर 80 टेंट लगा दिए हैं। जहां पर चीनी सेना ने टेंट लगाया है, वह स्थल उत्तर डोकलाम के पोस्ट डोलाम पठार से महज एक किलोमीटर की दूरी पर है।

इस इलाके में चीनी सैनिकों की संख्या आठ सौ से कम है यानी चीन ने यहां पर PLA की पूरी बटालियन तैनात नहीं की है। इतना ही नहीं, चीन ने विवादित इलाके में 350 भारतीय सैनिकों के मुकाबले करीब 300 PLA सैनिक तैनात किए हैं। ये भारतीय सैनिक 30 टेंट लगाए हुए हैं।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *