भारतीय जवानों पर अबतक का सबसे बड़ा आतंकी हमला, 40 जवान शहीद

इंडिया डेस्क। देश के सबसे अधिक आतंकग्रस्त इलाके जम्मू—कश्मीर में आतंकियों ने अबतक की सबसे बड़ी घटना को अंजाम दिया। पु​लवामा में गुरूवार दोपहर लगभग साढ़े तीन बजे 5 दर्जन से अधिक बसों में सवार होकर जा रहे लगभग 2500 जवानों पर हाइवे पर ही आईईडी ब्लास्ट कर दिया। इस दुस्साहसिक वारदात में 40 सीआरपीएफ जवानों की दर्दनाक मौत हो गयी जबकि 40 से अधिक गंभीर बताए जा रहे हैं।

इस पूरे मामले में दुर्दांत आतंकी संगठन जैश—ए—मोहम्मद ने घटना की जिम्मेदारी ली है। जानकारी के मुताबिक, पुलावामा जिले में गुरुवार शाम हुए बड़े आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए ।

आंतकियों ने श्रीनगर-जम्मू हाईवे पर अवंतिपोरा इलाके में सीआरपीएफ के एक काफिले को निशाना बनाया और जवानों से भरी बस में विस्फोटकों से भरी गाड़ी लेकर घुस गया। इस हमले के बाद से ही दक्षिणी कश्मीर के कई इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, सीआरपीएफ के जवानों पर गुरुवार शाम को अवंतिपोरा के गरीपोरा के पास घात लगाकर बैठे आतंकियों ने हमला किया।

इस इलाके में हाईवे से गुजर रही बस में एक आतंकी विस्फोटकों से भरी गाड़ी लेकर घुस गया और इस ब्लास्ट में पूरी बस उड़ गई। जिसके बाद सीआरपीएफ जवानों के वाहनों पर फायरिंग भी करने की सूचना है।

इस पूरी घटना की जिम्मेदारी जैश—ए—मोहम्मद ने ली है। जैश के आतंकी आदिल अहमद उर्फ वकास कमांडो ने विस्फोटकों से भरी गाड़ी लेकर जवानों की बस को टक्कर मारी। पुलवामा के काकापोरा के रहने वाले आदिल ने 2018 में जैश ज्वाइन किया था।

फिलहाल घायल जवानों को तुरंत श्रीनगर के हॉस्पिटल में शिफ्ट करने का काम शुरू कर दिया गया है।
स्थानीय युवाओं को भड़का रहे हैं आतंकी — जम्मू—कश्मीर गवर्नर

राज्यपाल सत्यपाक मलिक ने कहा- आतंकी स्थानीय युवाओं को भड़का रहे हैं। सुरक्षाबलों की कार्रवाई से बौखलाए हुए थे आतंकी। सुरक्षा में चूक के चलते हुए हमला। हम सभी आतंकियों को खत्म करने ही दम लेंगे। सुरक्षाबल मुश्किल परिस्थितियों में काम कर रहे हैं। स्थानीय नेता आतंकियों का मनोबल बढ़ाते हैं।

अलर्ट में जताया था हमला होने का अंदेशा

खुफिया एजेंसियों ने एक बड़ा अलर्ट जारी करते हुए कहा था कि आतंकी जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों के डिप्लॉयमेन्ट और उनके आने जाने के रास्ते पर हमला कर सकते हैं।

ये अलर्ट संसद भवन पर हमले के दोषी अफजल गुरु और जेकेएलएफ के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट्ट की फांसी की बरसी से ठीक पहले जारी किया गया था। 8 फरवरी को जारी इस अलर्ट में साफ कहा गया था कि आतंकियों ने हमले का प्लान बनाया है।

खुफिया एजेंसियों ने जारी किया था अलर्ट

कश्मीर के पुलवामा में हमले को लेकर नया अपडेट आया है। सूत्रों से खबर है कि खुफिया एजेंसियों ने सात दिन पहले ही अलर्ट जारी किया था कि कश्मीर में सुरक्षाबलों को डिप्लॉयमेंट और उनके आने-जाने के रास्ते पर आतंकी हमला कर सकते हैं।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *