BRD काण्ड— Allahabad  हाइकोर्ट व LKO Bench ने मांगा जवाब

इलाहाबाद/लखनऊ । उप्र के गोरखपुर जिले के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में बच्चों की मौत पर अब इलाहाबाद हाईकोर्ट गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार से जवाब मांगा है। वहीं दूसरी ओर, इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने भी सरकार को नोटिस जारी की है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शुक्रवार को एक जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद उत्तर प्रदेश सरकार से आगामी 29 अगस्त को जवाब देने का आदेश दिया है।

लोकेश खुराना व कई अन्य की जनहित याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में बच्चों की मौत के मामले में जनहित याचिका पर मुख्य न्यायधीश डीबी भोसले के साथ न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा ने सुनवाई की।

हाईकोर्ट ने गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कालेज में बच्चों की मौत पर राज्य सरकार से जवाब मांगा है। आज इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा कि बच्चों की मौत किस कारण से हुई है।

इसके साथ ही कोर्ट ने पूछा है कि प्रदेश सरकार ने इंसेफ्लाइटिस से निपटने के लिए सरकार क्या कदम उठाए हैं। इस याचिका पर अगली सुनवाई अब 29 अगस्त को होगी।

LKO बेंच ने भी मांगा जवाब

इलाहाबाद हाईकोर्ट के बाद अब इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खण्डपीठ ने भी गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में बड़ी संख्या में बच्चों की हुई मौत के मामले में राज्य सरकार और चिकित्सा शिक्षा निदेशालय को 06 सप्ताह में विस्तृत जवाब देने के आदेश देते हुए 09 अक्टूबर को सुनवाई की अगली तिथि नियत किया है।

आरटीआई एक्टिविस्ट एवं अधिवक्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने गोरखपुर के दुखद हादसे के सम्बन्ध में दायर जनहित याचिका दायर की थी। न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति दया शंकर तिवारी की खण्डपीठ ने डा. नूतन ठाकुर राज्य सरकार के महाधिवक्ता राघवेन्द्र प्रताप सिंह तथा चिकित्सा शिक्षा निदेशालय के अधिवक्ता संजय भसीन को सुनने के बाद यह आदेश पारित किया।

महाधिवक्ता श्री सिंह ने कहा कि राज्य सरकार इस मामले में सभी संभव कदम उठा रही है और मुख्य सचिव की रिपोर्ट आने के बाद शेष सभी कार्यवाही की जाएगी। इस पर डा. नूतन ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार के अब तक के कार्यों से ऐसा सन्देश गया है कि वे कुछ छिपाना चाहते हैं और कतिपय लोगों का बचाव किया जा रहा है, जिससे लगता है कि मुख्य सचिव की जाँच एक दिखावा ही होगी।

उन्होंने मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों द्वारा निजी प्रैक्टिस करने की समस्या को रखते हुए इन्हें भी सख्ती से रोके जाने की प्रार्थना की।

Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *