पाक की हरकतों से अब भी चुनौती  है कश्मीर समस्या-राजनाथ

लखनऊ । केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत अपनी परम्परा के मुताबिक पड़ोसियों के साथ रिश्ते बनाकर रखना चाहता है लेकिन पाकिस्तान के अस्थिरता उत्पन्न करने वाली गतिविधियों के कारण कश्मीर की समस्या अब भी एक चुनौती बनी हुई है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हालांकि सेना, केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल, राज्य पुलिस और खुफिया ब्यूरो के अफसर बेहतर समन्वय से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर को भारत से अलग करने की नीयत से पाकिस्तान वहां बराबर आतंकवादी भेज रहा है लेकिन सेना, अर्द्ध सैनिक बल, जम्मू-कश्मीर पुलिस तथा खुफिया विभाग समन्वय के कारण वहाँ रोज चार-छह आतंकवादी मारे जा रहे हैं।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने सोमवार को उप्र के लखीमपुर खीरी और बहराइच के दौरे पर आये थे। उन्होंने लखीमपुर खीरी में सशस्त्र सीमा बल सेक्टर मुख्यालय पर प्रशासनिक भवन, आवासीय परिसर और भोजनालय का उद्घाटन करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि पाकिस्तान की अस्थिरता पैदा करने वाली हरकतों के कारण कश्मीर की समस्या अब भी एक चुनौती बनी हुई है। वहीं गृह मंत्री ने बहराइच में कहा कि दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अक्सर कहा करते थे कि जिन्दगी में दोस्त बदले जा सकते हैं लेकिन पडोसी नहीं। लिहाजा पड़ोसियो से रिश्ते बनाकर रखने चाहिए। हमारे बाकी सभी पड़ोसी देश इस बात को समझते हैं लेकिन पाकिस्तान नहीं समझता। मगर, आज नहीं तो कल समझकर रहेगा।
बहराइच में भारत-नेपाल सीमावर्ती के रूपईडीहा में सरहद पर 200 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली एकीकृत जांच चैकी का अनावरण करने के बाद आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि भारत अपनी परम्परा के मुताबिक पड़ोसियों के साथ रिश्ते बनाकर रखना चाहता है। पाकिस्तान के अलावा हमारे सभी पड़ोसी देशों से अच्छे रिश्ते हैं। उन्होंने कहा किरूपईडीहा में एकीकृत जांच चैकी प्रदेश में बनने जा रही ऐसी पहली एजेंसी है जहां सभी एजेंसियां एक ही स्थान पर भारत और नेपाल के बीच आने-जाने वाले वाहनों को अपनी सेवाएं प्रदान करेंगी। उन्होंने कहा कि यह चैकी दो वर्ष में बनकर तैयार हो जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व में पडोसी देश पाकिस्तान नेपाल के रास्ते घुसपैठ कराने की कोशिश में रहता था। इस चेक पोस्ट से इस पर काबू पाया जा सकेगा। साथ ही भारत और नेपाल के बीच व्यापार तथा आवागमन सुगम हो जाएगा।
गृह मंत्री ने दावा किया कि पिछले चार वर्षों के दौरान नक्सलवादी गतिविधियों में 50 प्रतिशत की गिरावट आयी है। इसी तरह पूर्वोत्तर के क्षेत्रों में उग्रवाद की घटनाओं में भी 80 फीसद तक की कमी आयी है। आंतरिक सुरक्षा के क्षेत्र में हुए सुधारों की सराहना करते हुए श्री सिंह ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार के पिछले साढ़े चार साल के दौरान देश में एक भी बड़ा आतंकवादी हमला नहीं हुआ है। वहीं सपा-बसपा के गठबंधन के बारे में पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि वर्ष 1993 की बात तो बहुत पुरानी है, 2017 भूल गये क्या? उन्होंने दावा किया कि तरह तरह के गठबंधन हो रहे हैं लेकिन भाजपा उत्तर प्रदेश में 80 में से 72 से कम सीटें नहीं जीतेगी। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के सभी 80 लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी खड़े करने के सवाल पर सिंह ने कहा कि कांग्रेस के पास तो इतनी भी कूवत नहीं है कि वह सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार सके।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *