अखिलेश यादव को इलाहाबाद जाने रोके जाने पर दोनों सदनों में हंगामा, कार्यवाही बाधित

लखनऊ। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव को कि इलाहाबाद विश्वविदयालय में छात्रों के एक कार्यक्रम में जाने में शामिल होने जाने पर उनको लखनऊ के चैधरी चरण सिंह हवाई अडडे पर रोक दिए जाने के बाद विधानसभा और विधान परिषद में सपा सदस्यों ने जमकर हंगामा किया।

हंगामें के चलते जहां कई बार सदन की कार्यवाही स्थगित की गयी वहीं बाद में भी शोरगुल नहीं थमने पर कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी। वहीं पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदेष के विभिन्न जिलों में सड़कों पर निकलकर भी प्रदर्षन किया। इस दौरान कई जगह पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ा।

दरअसल हुआ यूं कि बजट सत्र के दौरान विधानसभा की कार्यवाही मंगलवार को शांतिपूर्वक चल रही थी। प्रष्नकाल के दौरान विपक्ष द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब भी सरकार दे चुकी थी।

तीसरे सवाल का उत्तर जैसे ही संसदीय कार्य मंत्री सुरेष कुमार खन्ना ने देना शुरु किया तभी सपा के नरेन्द्र वर्मा ने बीच में बोलते हुए कहा कि हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को लखनऊ एयरपोर्ट पर रोका गया है और उन्हें प्रयागराज नहीं जाने दिया जा रहा है। जबकि उनका कार्यक्रम पहले से ही भेजा गया था। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है।

इसके बाद सपा सदस्य विधानसभा अध्यक्ष की पीठ के सामने वेल में आ गए और नारेबाजी करने लगे। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कई बार सदन को व्यवस्थित कराने का प्रयास किया लेकिन नारेबाजी और हंगामा तेज हो गया। बाद में सदन की कार्यवाही पहले 20 मिनट और फिर 12 बजकर 20 मिनट तक के लिए स्थगित कर दी गयी। इस दौरान भी सपा सदस्य वेल में डटे रहे। ऐसे में एक बार फिर सदन का स्थगन 20 मिनट और बढ़ा दिया गया।

बाद में जब सदन की कार्यवाही दोबारा शुरु हुई तो भी हंगामा जारी रहा। इस दौरान बसपा नेता लालजी वर्मा ने भी सपा सदस्यों का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार हिटलरषाही का आचरण कर रही है। वहीं कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू भी इसी विषय पर कुछ कहना चाहते थे लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने दोनों को अनुमति नहीं दी। जिसके बाद बसपा और कांग्रेस के सदस्य भी वेल में आ गए। इस तरह समूचे विपक्ष ने सपा अध्यक्ष को रोके जाने का विरोध किया।

वहीं संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि मैने इस मामले की रिपोर्ट मंगवाई है। सपा नेता (अखिलेष यादव) प्रयागराज में छात्रसंघ के एक कार्यक्रम में भाग लेने जा रहे थे, जिलाधिकारी प्रयागराज ने उन्हें बताया कि अगर वह कार्यक्रम में शामिल हुये तो कानून व्यवस्था की समस्या खड़ी हो जायेगी। उन्होंने कहा कि इस बारे में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को कल ही सूचना दे दी गयी थी।

उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था हमारी प्राथमिकता है और इसको बनाये रखने के लिये हम हर कदम उठायेंगे। जहां तक उनकी यात्रा का सवाल है वह कानून व्यवस्था की दृष्टि से ठीक नही है इसलिये यह कदम उठाया गया। उन्हें (अखिलेश) को कानून का पालन करना चाहियें क्योंकि यह उनकी भी जिम्मेदारी है। उन्हें जिलाधिकारी के आदेश को नजरअंदाज नही करना चाहियें। सपा सदस्य केवल शोर मचाना जानते है वह सदन को चलने नही देना चाहते है। उधर, हंगामें और शोरगुल के बीच विधानसभा की आज की कार्यवाही आनन-फानन में पूरी कर सदन की बैठक कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी।

वहीं दूसरी ओर विधानपरिषद में यह मुददा सदन में विपक्ष के नेता अहमद हसन ने उठाया और सदस्यों के हंगामे के बाद सभापति ने 25 मिनट के लिये सदन की कार्रवाई स्थगित कर दी। इसके बाद परिषद की कार्यवाही पूरे प्रश्न काल के लिये स्थगित कर दी गयी।

बाद में जब दोबारा कार्यवाही शुरू हुई गुस्साये सपा सदस्य अध्यक्ष के आसन के समक्ष आ गये और योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ नारे लगाने लगे। सपा सदस्य नारे लगा रहे थे, ‘योगी तेरी तानाशाही नही चलेगी।’ बाद में परिषद की कार्यवाही भी कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *