देवरिया शेल्टर होम की युवती मिली गोरखपुर के वृद्धाश्रम में

लखनऊ। बिहार प्रांत के बाद उप्र के देवरिया जिले के बालिका संरक्षण गृह में हुए वेष्वावृत्ति काण्ड इन दिनों सुर्खियों में है। इस मामले में योगी सरकार ने त्वरित कार्रवाई कर दी है। इस बीच देवरिया बालिका संरक्षण गृह की एक 21 वर्षीय लडकी पुलिस को मंगलवार शाम गोरखपुर के एक वृद्धाश्रम में मिली।

अधिकारिक स्तर पर मिली जानकारी के अनुसार 21 वर्षीय युवती को रानी डीहा क्षेत्र के एक वृद्धाश्रम में पाया गया। रजिस्टर में दर्ज ब्यौरे के मुताबिक युवती को यहां पांच अगस्त को लाया गया था। वह सदमे में थी। उसका चिकित्सीय परीक्षण कराने के बाद बयान दर्ज किया जाएगा। विदित हो बुजुर्ग अंतःवासियों के साथ युवती का रहना अवैध है। इस मामले की जांच की जा रही है। देवरिया शेल्टर होम से छुडायी गयी 24 लडकियों में से एक ने मीडिया को बताया था कि लडकियों को गोरखपुर भेजा जाता था। वहां एक कमरे में दो पुरूषों के साथ एक लड़की भेजी जाती थी। वृद्धाश्रम के लिपिक अंकित मिश्र ने दावा किया कि वृद्धाश्रम पिछले 30 साल से मां विंध्यवासिनी एनजीओ के तहत चल रहा है लेकिन जब इसकी संबद्धता जून 2017 में समाप्त की गयी तो संगठन उच्च न्यायालय जाकर स्थगनादेश ले आया इसलिए यह वैध है। एनजीओ प्रबंधक गिरिजा देवी की विधवा पुत्री कनकलता, उसकी चार वर्षीय पुत्री और अंकित मिश्र भी वृद्धाश्रम में रहते हैं।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *