तीन दिवसीय हड़ताल को लेकर राज्य कर्मचारियों ने कसी कमर, समर्थन में आए कई और बड़े संगठन -पुरानी पेन्षन व्यवस्था बहाल करने की मांग

लखनऊ। कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारीपुरानी पेंशन बहाली मंच सरकार के उच्चाधिकारियों के साथ अब तक हुई वार्ता में सहमति नही बनी है। पुरानी पेंशन बहाली मंच के इस आन्दोलन को आज दो बड़े संगठन क्रमशः प्रादेशिक विकास सेवा संघ जिसमें सीडीओ, बीडीओ और डीडीओ संवर्ग तथा प्रादेशिक निबंधन सेवा संघ जिसमें रजिस्टार तथा निबंधन के अधिकारी संवर्ग शामिल है का समर्थन मिला है। जनपद स्तर से लेकर तहसील स्तर तक जनजागरण शुरू हो चुका है। सार्थक निर्णय या परिणाम निकलने के कारण मंच की 25, 26 और 27 को होने वाली तीन दिवसीय हड़ताल होकर रहेगी। 

 

कर्मचारियों और शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए मंच के संयोजक हरिकिशोर तिवारी ने कहा कि कर्मचारी शिक्षक सभी जिला स्तर या संगठन अपने अपने स्तर पर अधिकारियों को केन्द्र से जारी हड़ताल नोटिस की सूचना उपलब्ध करा दे। तीन दिवसीय हड़ताल में किसी भी प्रकार का कार्य करे और ही अधिकारियों से मिले और उनका दूरभाष पर निर्देश प्राप्त करें। हड़ताल के पहले दिन 25 अक्टूबर को 50 सदस्यों की टोली बनाकर मोटरसाइकिल जुलूस के रूप सभी कार्यालयों में जाकर जनजागरण करेंगे और हड़ताल को मूर्तरूप देंगे। दूसरे और तीसरे दिन यानि 26 और 27 अक्टूबर कार्यालयों में दस बजे जनजागरण और चार बजे विकास भवन एवं सार्वजानिक कार्यालयों एकत्र होकर पुरानी पेंशन बहाली की मांग पर नारेबाजी करेगे। मंच के अध्यक्ष डा. दिनेश चंद शर्मा ने कहा कि 27 अक्टूबर को हड़ताल के अंतिम दिन काला फीता, पुरानी पेंशन बहाली की तख्तियाॅ लेकर सामूहिक रूप से जिलाधिकारी कार्यालय पहुंच कर जिलाधिकारी के माध्यम से पुरानी पेंशन बहाली का ज्ञापन मुख्यमंत्री को प्रेषित किया जाएगा। किसी भी प्रकार के तोड़फोड़, मारपीट एवं झगड़े से बचकर आन्दोलन करना रहेगा। हड़ताल विरोधी तत्व उकसाने की कोशिश करे तो इसकी सूचना अविलम्ब जिला प्रशासन को देकर मदद लेनी होगी। जो संगठन हड़ताल में सम्मिलित नही हो रहे उनके अध्यक्ष और महामत्री से वार्ता कर कुछ हल निकाला जाए। वहीं प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश महामंत्री संजय सिंह ने कहा कि 24 अक्टूबर को मोटरसाइकिल रैली निकालकर हर जनपद में कर्मचारियों में जनजागरण चलाया जाए। हड़ताल के हर दिवस सायंकाल छह बजे समीक्षा की जाए। विद्यालयों में भोजन वितरण में सहयोग नही किया जाएगा। 27 अक्टूबर को हड़ताल के तीसरे दिन तीन बजे उच्चाधिकार समिति की बैठक में अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय लिया जाएगा। 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *