बकरीद पर न हो गोवंशी पशुओं की कुर्बानी-योगी

लखनऊ। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद-उल-अजहा (बकरीद) के मौके पर शांति व्यवस्था बनाये रखने के साथ ही यह निर्देष दिए हैं कि इस मौके पर प्रतिबन्धित पशुओं या गोवंशी पशुओं की कुर्बानी न हो। साथ ही उन्होंने कानून-व्यवस्था के सम्बन्ध में पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के पर्याप्त प्रबन्ध सुनिश्चित कर लिए जाएं। उन्होंने हर स्तर पर त्योहार को शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराने, सुरक्षा प्रबन्ध चाक-चैबन्द रखने तथा असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगाह रखने के भी निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि परम्परा के विपरीत किसी भी कार्य को किये जाने की मंजूरी न दी जाए।

मुख्यमंत्री यहां ईद-उल-अजहा त्योहार के सम्बन्ध में वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में श्रावण मास चल रहा है, जिसमें कांवड़ियों द्वारा कांवड़ यात्रा की जा रही है। ईद-उल-अजहा के दृष्टिगत सतर्क दृष्टि रखी जाए, ताकि कोई अप्रिय घटना न घटित हो। उन्होंने संवेदनशील जनपदों एवं स्थानों के दृष्टिगत पूर्व तैयारी एवं कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ईद-उल-अजहा के अवसर पर सभी जनपदों में गैर-परम्परागत रूप से खुले स्थानों पर विशेषकर मिश्रित आबादी वाले या धर्मस्थलों के निकट किसी भी प्रकार के विवाद की आशंकाओं को हर हाल में रोका जाए। जहां विवाद की आशंका हो, वहां पर पहले से पुलिस पिकेट, गश्त आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, ताकि किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना घटित न हो।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि ईद-उल-अजहा के अवसर पर नमाज के समय, मन्दिरों में पूजा-अर्चना के समय सतर्क दृष्टि रखी जाए। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रतिबन्धित पशुओं या गोवंशी पशुओं की कुर्बानी के सम्बन्ध में विशेष सतर्कता बरतते हुए इन्हें रोका जाए, ताकि कोई अप्रिय घटना घटित न हो। उन्होंने ईद-उल-अजहा के दौरान पूर्व में हुई घटनाओं की समीक्षा किये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि असामाजिक तत्वों के विरुद्ध निरोधात्मक कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। इसके साथ ही, उन्होंने मोहर्रम, नवरात्रि, दुर्गा-पूजा, दशहरा आदि के सम्बन्ध में भी पूर्व से तैयारियों को सुनिश्चित किये जाने की बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी उच्चाधिकारी क्षेत्रों में भ्रमण करें। अपने-अपने सम्बन्धित जनपदों में भ्रमण तथा थाना स्तर पर निरीक्षण भी करें। जनपद स्तर पर रेंज स्तर के पुलिस अधिकारी कैम्प करते हुए समीक्षा करें।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *