योगी सरकार में दलितों-आदिवासियों पर हमले बढ़े: माले

लखनऊ। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने कहा है कि योगी सरकार में दलितों-आदिवासियों पर हमले बढ़े हैं। यही नहीं, जन अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले राजनीतिक कार्यकर्तओं पर न सिर्फ झूठे मुकदमे लादे जा रहे हैं, बल्कि उनकी हत्या तक कर दी जा रही है। मिर्जापुर जिले की हाल की घटनाएं इसका प्रमाण हैं, जहां यह सब कुछ प्रशासन की देखरेख में हो रहा है और आरोपियों को पुरा संरक्षण दिया जा रहा है।

माले के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने शनिवार को जारी बयान में कहा कि मिर्जापुर के लालगंज क्षेत्र में वामपंथी आदिवासी कार्यकर्ता हिम्मत कोल की दो दिन पूर्व हत्या कर दी गई। उनका शव 18 अक्टूबर की सुबह मिला। कोल वनाधिकार कानून को आदिवासियों के पक्ष में लागू करने के लिए संघर्षरत थे और इसके चलते वन विभाग ने उन पर फर्जी मुकद लड़ रखे थे, इन मुकदमों में वे कई दिनों से जेल में थे। दो दिन पहले ही अदालत के आदेश से रिहा होकर क्षेत्र में वापस आये थे। उनकी हत्या कराने का आरोप वन विभाग के रेंजर भास्कर पांडेय पर है, लेकिन पुलिस ने पांडेय के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने से इनकार कर दिया।

राज्य सचिव ने कहा कि भाकपा (माले) दलितों-आदिवासियों पर बढ़ रहे हमलों के खिलाफ और न्याय की मांग के लिए 24 अक्टूबर को मड़िहान में न्याय मार्च निकालेगी।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *