अवैध खनन मामले में आईएएस बी. चन्द्रकला से ईडी ने की पूछताछ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में हुए अवैध खनन मामले में सक्रिय हुई केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ओर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीमें लगातार छानबीन कर रही हैं।

इस मामले में पहले ईडी से नजरें चुराने वाली चर्चित आईएएस अधिकारी बी. चंद्रकला बुधवार को ईडी के सामने आयीं और उनके सवालों का जवाब दिया। उन पर नियमों का उल्लंघन कर ठेका देने का आरोप है।

इससे पूर्व सीबीआई की टीम उनके नोएडा और लखनऊ स्थित घर पर छापेमारी भी कर चुकी है।

अवैध खनन का यह प्रकरण उस समय का है जब बी. चन्द्रकला बतौर जिलाधिकारी हमीरपुर में तैनात थीं। उन पर आरोप है कि बिना ई-टेण्डरिंग के उन्होंने अपने स्तर से खनन का ठेका आवंटित किया था। उस समय सूबे में अखिलेष यादव के नेतृत्व में सरकार थी और खनन मंत्री मुख्यमंत्री के ही अधीन था।

मामले की षिकायत होने के बाद हाईकोर्ट इसकी जांच सीबीआई को सौंपी थी। बाद में सीबीआई और ईडी दोनों ने मिलकर जांच शुरु की। एक ओर सीबीआई ने छापेमारी शुरु की तो वहीं ईडी ने पूछताछ की शुरुआत है। पूर्व मंे जब ईडी ने हमीरपुर की पूर्व जिलाधिकारी बी चंद्रकला को पूछताछ के लिए बुलाया था तब वह पेश नहीं हुईं थी। लेकिन उन्होंने खुद न आकर अपना वकील भेज दिया था।

इसके बाद ईडी ने दोबारा समन जारी कर बुधवार को पूछताछ की। सूत्रों के मुताबिक ईडी ने चंद्रकला से उनकी संपत्तियों के बारे में जानकारी मांगी। साथ ही हमीरपुर में डीएम रहते हुए उन्होंने किन-किन लोगों को अवैध खनन में लाभ पहुंचाया, इसके बारे में भी सवाल जवाब किए।

वहीं दूसरी ओर प्रवर्तन निदेशालय ने खनन से जुड़े 11 कारोबारियों को समन जारी कर लखनऊ में सोमवार को तलब किया था। इस दौरान कारोबारियों और उनसे जुड़े लोगों से लगातार पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किए गए थे। सीबीआई ने इन कारोबारियों की संपत्ति की जांच करने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पत्र भेजा था।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *