राफेल समझौता आजाद भारत के इतिहास का सबसे बड़ा ‘स्कैण्डल‘-बादल

लखनऊ । पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने राफेल लड़ाकू विमान में हुए कथित घोटाले को देश के इतिहास का सबसे बड़ा ‘स्कैण्डल‘ करार देते हुए संसद की संयुक्त समिति से इसकी जांच कराने की मांग की।

बादल ने गुरुवार को यहां प्रेस वार्ता में कहा कि राफेल विमान खरीद पर तमाम सवालिया निशान खड़े हुए हैं। यह आजाद भारत के इतिहास का सबसे बड़ा स्कैण्डल है। सरकार ने इस मामले में उच्चतम न्यायालय को गुमराह किया है। यह पूरी तरह खुला भ्रष्टाचार है।

उन्होने कहा कि जिस राफेल विमान का 560 करोड़ रुपये के हिसाब से टेण्डर हुआ था वह 1670 करोड़ का कैसे हो गया जबकि इंजन क्षमता एवं अन्य किसी उपकरण में कोई वृद्धि नहीं हुई है।

इसके अलावा विमान की सर्विसिंग और मेन्टीनेन्स आफसेट कान्ट्रेक्ट अनुभवी भारतीय कम्पनी हिन्दुस्तान एयरोनाॅटिक्स लिमिटेड के बजाय महज 13 दिन पहले बनी रिलायंस एयरो स्ट्रक्चर लिमिटेड को क्यों दे दिया गया।

बादल ने कहा कि इस समय हिन्दुस्तान में विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री, वित्त मंत्री चाहे जो हों, मगर निर्णय सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी ही लेते हैं। रक्षा सौंदों के लिए मान्य प्रक्रिया का उल्लंघन किया जा रहा है जो देश के लिए चिन्ताजनक है। उन्होने कहा कि सरकार ने राफेल समझौते की कीमत के बारे में उच्चतम न्यायालय को भी गुमराह किया।

जब यह मामला उजागर हुआ तो मोदी सरकार न्यायालय से आग्रह कर रही है कि उससे टाइपिंग में त्रुटि हो गयी है। बादल ने कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल खरीद समझौते की जेपीसी से जांच कराने की चुनौती दी है। लिहाजा कांग्रेस की मांग है कि इस सौदे की जांच जेपीसी से करायी जाये।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *