पौष पूर्णिमा पर कुम्भ में उमड़ा श्रद्धालुओं का जनसैलाब, लाखों ने लगाई आस्था की डुबकी

प्रयागराज। संगमनगरी प्रयागराज में कुंभ में सोमवार पौष पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धालुओं को जनसैलाब उमड़ पड़ा। कल्पवास का संकल्प लेकर आये श्रद्धालुओं ने भी आज से ही अपना कल्पवास शुरु किया। वहीं संगम पर स्नान करने के लिए लोग बीती रात से ही प्रयागराज में पहुंचे थे।

सूर्य निकलने से पहले ही पौष पूर्णिमा में लोगों ने डुबकी लगानी शुरू कर दी थी। यह सिलसिला देर शाम तक जारी रहा। अनुमान के मुताबिक पौष पूर्णिमा के मौके पर करीब 60 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा, यमुना और अदृष्य सरस्वती के संगम पर डुबकी लगा पुण्य प्राप्त किया। हालांकि पौष पूर्णिमा पर शाही स्नान नहीं होता है।

कुंभ के दूसरे प्रमुख स्नान पर्व पौष पूर्णिमा पर सोमवार दोपहर 12 बजे तक लगभग 40 लाख श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाई। आज दिन में 11 बजे तक 30 लाख लोगों ने पुण्य की डुबकी लगा ली थी। यहां पर कल रात से स्नानार्थी संगम पहुंच गए थे। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के बीच डुबकी लग रही है।

इसके साथ ही आज से कल्पवास शुरू हो गया है। कल्पवासी स्नान कर दान कर पुण्य कमा रहे हैं। पौष पूर्णिमा पर गंगा, यमुना, अदृश्य सरस्वती के पवित्र संगम में पुण्य की डुबकी लगाने के लिए कल शाम देश के कोने-कोने से आस्थावानों का जन सैलाब उमड़ पड़ा।

वाहनों पर गृहस्थी के सामान के साथ तुलसी के पौधे, कांसा लेकर बड़ी तादाद में कल्पवासी और श्रद्धालु कुंभनगर के शिविरों में पहुंचे। आधी रात संगम के घाटों पर लाखों की तादाद में श्रद्धालुओं का जमावड़ा हो गया। शाम तक लाखों की तादाद में तीर्थयात्री संगम क्षेत्र में पहुंच गए।

यहां फाफामऊ से अरैल के बीच संगम के 35 घाटों पर कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच संगम स्नान हुआ।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *