अयोध्या प्रकरण- मध्यस्थ श्री श्री रविशंकर को लेकर विवाद!

लखनऊ । अयोध्या के रामजन्मभूमि तथा बाबरी मस्जिद की जमीन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थता संबंधी निर्णय के बाद बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने मंगलवार को एक मध्यस्थ श्री श्री रविशंकर को लेकर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि मध्यस्थों के पैनल में श्रीश्री रविशंकर के नाम को लेकर विवाद है। उनका कहना है कि अयोध्या के साधु-संतों को भी उनके नाम पर ऐतराज है।

सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बावत आज यहां बाबरी मस्जिद एक्षन कमेटी ने बैठक कर गंभीर चर्चा की। बैठक में बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी के साथ हाजी महबूब व मोहम्मद उमर भी शामिल हुए। इसके अलावा आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड की भी बैठक हुई।

राजधानी के नदवा कॉलेज में हुई बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी की बैठक के बाद इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या में मध्यस्थता को लेकर जो पैनल बनाया गया है उस पर अभी कोई बात नही हुई है। उन्होंने कहा कि इस पैनल में श्रीश्री रविशंकर के नाम पर विवाद है। अयोध्या के साधु-संतों को उनके नाम पर ऐतराज है। उन्होंने कहा कि हम तो अयोध्या में साधु-संतों के बीच में रहते हैं, जब उन लोगों को श्रीश्री रविशंकर के नाम पर ऐतराज है तो फिर हमको भी उनके नाम पर आपत्ति है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या विवाद के सभी पक्षकार चाहते हैं कि मसला हल हो। उन्होंने कोर्ट से पैनल में और लोगों को शामिल करने की मांग करते हुए कहा कि कोर्ट ने जो भी किया, वह सब ठीक है लेकिन श्री श्री रविशंकर का वह विरोध करते हैं।

बैठक में अध्यक्ष मौलाना राबे हसनी नदवी, महासचिव मौलाना वाली रहमानी, सचिव वकील जफरयाब जिलानी, सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी, मेहबूब अली, जमीअत उलमा ए हिन्द के प्रदेश अध्यक्ष मौलाना अशहद रशीदी के साथ मौलाना अतीक बस्तवी भी मौजूद थे। बैठक बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के जफरयाब जिलानी ने आहूत की है।

इकबाल अंसारी ने कहा कि कल हम अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट की गठित मध्यस्था कमेटी की बैठक में भी शामिल होंगे। कल पहली बैठक होगी। हम इस कमेटी का सम्मान करते हैं। इस मसले में कोर्ट अपना काम करेगा और पैनल अपना काम करेगा। यह मामला करीब 70 वर्ष से फंसा है। अब इसका कोई हल होना जरूरी है। मसला अमन चैन से हल होना चाहिए। इकबाल अंसारी ने कहा कि हम तो कल पैनल के सामने जाएंगे, अगर वह जायज बात कहेगा तो ही हम बात मानेंगे।

 

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में मध्यस्थता के लिए पैनल गठित करने के आदेश दिए थे। इस मध्यस्थ पैनल में तीन सदस्यों को शामिल किया गया है। इस मध्यस्थता बोर्ड के सदस्यों में श्रीश्री रविशंकर के साथ ही श्रीराम पंचू को भी शामिल किया गया है। मध्यस्थता बोर्ड के अध्यक्ष जस्टिस फकीर मोहम्मद इब्राहिम कलीफुल्ला हैं।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *