तिलमिलायी BJP कर रही है मुझे बदनाम करने की साजिश: अखिलेश

लखनऊ । समाजवादी पार्टी के मुखिया एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हाल में किये गये अपने सरकारी बंगले में कथित तोड़फोड़ को लेकर किये जा रहे प्रचार को उन्हें बदनाम करने की सरकारी साजिश करार देते हुए कहा है कि हाल के उपचुनावों में मिली हार और विपक्षी दलों के गठबंधन से परेशान भाजपा ने यह ओछी हरकत की है।
वहीं, राज्यपाल राम नाईक द्वारा सरकारी बंगले में तोड़फोड़ किए जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री यादव के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश पर अखिलेश ने कहा कि राज्यपाल के अन्दर संघ की आत्मा आ गयी है।
बंगले में तोड़फोड़ का मामला तूल पकड़ने के बाद सपा अध्यक्ष ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में प्रदेष की भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा है कि हम अपने सरकारी बंगले को खाली करने के दौरान हम टोटियां खोल ले गये और फर्श का पत्थर तोड़ डाला।
यह सरासर गलत और मुझे बदनाम करने के लिये ही किया गया है। उन्होंने कहा कि इसमें कुछ अधिकारी भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अधिकारी नम्बर बढ़ाने की होड़ कर रहे हैं।
सरकार मुझे बताये कि मैं कौन सी सरकारी चीज अपने साथ ले गया। मैंने जो चीजें अपने पैसे से लगवायी थीं, वह मैं ले गया। हम चाहते हैं कि सरकार बताये कि ‘इंवेंट्री’ क्या है। सरकार का कितना पैसा खर्च हुआ है।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा यह इसलिये कर रही है क्योंकि वह गोरखपुर और फूलपुर की हार स्वीकार नहीं कर पा रही है। यह समझ लें कि इस अपमान के लिये जनता उसे सबक सिखाएगी।
उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सचिव मृत्युंजय कुमार नारायण और उनके ओएसडी अखिलेष का नाम लेते हुए कहा कि मीडिया यह बताये कि आखिर उसके पहुंचने से पहले बंगले में कौन अधिकारी पहुंचे थे। किसने वहां पर वीडियो बनायी और किसने चीजों को मीडिया में अपने मुताबिक फैलाया।
जिस स्विमिंग पूल की तस्वीरें वायरल हो रही हैं, वह तो बंगले में मौजूद ही नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे जैसा आवास मिला था मैने वैसा ही आवास सरकार को सौंपा था। मैं तो उस घर से केवल अपना समान ले गये हैं। अधिकारियों को याद रखना चाहिये कि सरकारें बदलती रहती हैं।
सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बंगले में कथित तोड़फोड़ के मामले में कार्रवाई के लिये मुख्यमंत्री को कल पत्र लिखने वाले राज्यपाल राम नाईक पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि गवर्नर साहब संविधान से नहीं चल रहे हैं उनके अंदर आरएसएस की आत्मा है। राज्यपाल बहुत अच्छे इंसान हैं।
उन्हें संविधान के हिसाब से बोलना चाहिये मगर संघ की आत्मा आ जाती है तो हम क्या करें। उनको किसी ने बता दिया कि हमारे घर के निर्माण में 42 करोड़ खर्च हुये। तभी उन्होंने सरकार को पत्र लिखा है।
उन्होंने मुख्यमंत्री योगी पर निशाना साधते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव रिश्वत मांग रहे थे। पुलिस ने इल्जाम लगाने वाले को एक ही दिन में पागल करार दिया और अब आप मुझ पर इल्जाम लगा रहे हो। कितने छोटे दिल के इंसान हो आप।
विदित हो कि सोशल मीडिया पर इन दिनों पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा खाली किये गये बंगले की बताकर कई तस्वीरें वायरल की जा रही हैं। उनमें चीजों को अस्त-व्यस्त दिखाया गया है।
फर्श उखड़ा हुआ है और टोटियां तथा बिजली के स्विच निकले हुए हैं। इसे लेकर सोशल मीडिया पर अखिलेश की खूब आलोचना भी हो रही है। वहीं राज्यपाल द्वारा इस बावत मुख्यमंत्री को लिखे गए पत्र से विवाद और बढ़ गया है।
Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *