फिर एक हुए रामगोपाल और शिवपाल

इटावा । समाजवादी पार्टी के शीर्ष यादव परिवार में अब धीरे-धीरे रिश्तों की खाई अब पटने को है। कभी एक दूसरे के खिलाफ तलवारें खींचने वाले सपा नेता और आपस में रिष्ते में भाई प्रो. राम गोपाल यादव और शिवपाल सिंह यादव शुक्रवार को पुरानी बातें भूल अर्से बाद एक मंच पर गर्मजोशी से मिले और दोनों ने एक-दूसरे को केक खिलाया।
दरअसल आज प्रो. रामगोपाल का 72वां जन्मदिन था। इटावा में जन्मदिन पर रामगोपाल ने अपने पास खड़े शिवपाल का हाथ पकड़कर केक काटा और एक-दूसरे को खिलाया। बाद में दोनों एक साथ बैठे।
कार्यक्रम में पहले से विराजमान प्रदेश के पूर्व काबीना मंत्री शिवपाल ने रामगोपाल के पहुंचने पर उनके पैर छुए और माला पहना तथा गले मिलकर उनका स्वागत किया। दोनों नेता एक साथ मंच पर पहुंचे और साथ बैठे।
जन्मदिन का केक काटने का समय आया तो रामगोपाल ने शिवपाल का हाथ थामकर साथ-साथ केक काटा और एक-दूसरे को खिलाया। दोनों कुछ देर तक साथ में मंच पर बैठे रहे।
बाद में रामगोपाल शिकोहाबाद कस्बे में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के कार्यक्रम में शिरकत के लिये रवाना हुए तो शिवपाल उन्हें बाहर तक छोडने आए। रामगोपाल के चले जाने के बाद शिवपाल ने मंच से अपने संक्षिप्त सम्बोधन में कहा कि सपा और यादव परिवार में कोई झगड़ा नहीं है और न ही कभी था।
विदित हो कि सितम्बर 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री और मौजूदा पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव तथा उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव के बीच सत्ता और संगठन पर वर्चस्व के लिये शुरू हुई लड़ाई साल खत्म होते-होते चरम पर पहुंच गयी थी।
इस दौरान पार्टी दो गुटों में विभक्त हो गयी थी। इसमें रामगोपाल यादव ने खुलकर अखिलेश यादव का साथ दिया था। इस दौरान रामगोपाल और शिवपाल यादव ने एक-दूसरे के खिलाफ बेहद तल्ख टिप्पणियां की थीं।
Share this

media mantra news

Technology enthusiast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *